Posted in Most Recent

आ रहा है राफेल

अंबाला एयरफोर्स स्टेशन के लिए 29 जुलाई का दिन बेहद खास है। इस दिन हवा में मारक क्षमता बढ़ाने वाले पांच लड़ाकू विमान राफेल फ्रांस से अंबाला पहुंच जाएंगे। प्रशासन ने तैयारियां शुरू कर दी हैं। रंगे बिरंगे झंडों से पूरे एयरफोर्स स्टेशन को सजाया जा रहा है। किसी भी तरह की घुसपैठ रोकने के लिए सुरक्षा के लिहाज से आसपास बैरिकेड लगा दिए गए हैं। सेना ने भी चौकसी बढ़ा दी है। राफेल की वजह से क्षेत्र को नो ड्रोन जोन घोषित कर दिया गया है। आसपास की रिहायशी आबादी में पतंगबाजी पर भी रोक लगा दी गई है।

भारत आने वाले राफेल विमानों को उड़ाने के लिए वायुसेना ने पूरी तैयारी कर ली है। वायुसेना की अंबाला स्थित गोल्डन एरो 17 स्कवाड्रन इसे लेकर नियमित अभ्यास कर रही है। यही राफेल विमानों को उड़ाएगी। रक्षा सूत्रों ने बताया कि 58,000 करोड़ की राफेल विमान डील में भारत को 36 राफेल विमान मिलने हैं। इनका पहला बेड़ा 29 जुलाई तक भारत पहुंचने जा रहा है। बाकी बचे विमान सितंबर 2022 तक भारत को मिलेंगे। यूएई के रास्ते सभी एयरक्राफ्ट भारत पहुंचने की बात कही जा रही है। इसके लिए भारतीय वायुसेना का एक दल फ्रांस गया हुआ है। राफेल एयरक्राफ्ट के वायुसेना के लड़ाकू विमानों के बेड़े में शामिल होते ही पड़ोसी मुल्क चीन से चल रहे तनाव में इसका फायदा होगा।
राफेल लड़ाकू विमानों की विशेषता
राफेल का रडार -16 विमानों के मुकाबले बेहद मजबूत है और 100 किलोमीटर के दायरे में 40 टारगेट सेट कर सकता है। इसके साथ ही खतरनाक और आधुनिक मिसाइलों से लैस राफेल 300 किलोमीटर दूर स्थित लक्ष्य को निशाना बना सकता है। राफेल में लो लैंड जैमर, 10 घंटे तक की डाटा रिकॉर्डिंग और इजरायली हेलमेट वाली डिस्प्ले की सुविधा भी है। राफेल कई खूबियों वाले रडार वॉर्निंग रिसीवर, इन्फ्रारेड सर्च और ट्रैकिंग सिस्टम जैसी क्षमताओं से भी लैस है। इसके अलावा भी इन लड़ाकू विमानों में कई और शानदार खूबियां भी हैं। जिनकी वजह से जरूरत पड़ने पर ये दुश्मनों पर कहर बनकर टूटेंगे।
नो ड्रोन जोन घोषित किया गया स्टेशन
अंबाला एयरफोर्स स्टेशन के आसपास के पूरे इलाके को नो ड्रोन जोन घोषित किया गया है, यानि इस एरिया में कोई भी ड्रोन नहीं उड़ा सकता। इसके अलावा वायुसेना अधिकारी स्टेशन के आसपास बसी आबादी में भी पतंगबाजी पर रोक लगा चुके हैं। इसके लिए बाकायदा गांवों में मुनादी भी करवाई जा रही है। आसपास के इलाके में पक्षियों को दाना डालने व कूड़ा डंप करने पर भी रोक लगाई गई है। स्टेशन के बाहर साफ शब्दों में घुसपैठियों को गोली मारने के आदेश लिखकर चेतावनी दी गई है।